Karnal Voice message February 2014


01 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन दिनों तक आपके जिले में आसमान में हल्के गहरे बादल छाये रहेगें। रविवार से वर्षा होने के भी आसार है। इस बीच दिन का अधिकतम तापमान 20-22 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 6-8 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। साधारण तथा पिछवा हवा 4-9 किलोमीटर प्रति घन्टेकी रफतार से चलेगी। सुबह के समय हवा में नमी 50-90% और दोपहर में 35-50% तक रहने की सम्भावना है। ऐसे मौसम में सिंचाई या किसी भी स्प्रे का काम मौसम साफ होने तक रोक दें। साथ ही रतुआ रोग के लिये भी खेत में निगरानी रखें। धन्यवाद।



02 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। खेत में चूहों की रोकथाम के लिये हमने आपको एल्यूमीनियम फास्फाइड दवा को चूहों के बिलों में रखने की जानकारी दी थी। आज हम आपको जहरीला चुग्गा या बेट बना कर चूहे मारने की जानकारी दे रहे हैं। यह विधि खेत घर और गोदाम सभी जगह काम में ले सकते हैं। जहरीला चुग्गा बनाने के लिये एक किलोग्राम अनाज और 20 ग्राम सरसों के तेल एक सार मिला लें। अब इसमें 25 ग्राम जिंक फास्फाइड दवा किसी लकड़ी की सहायता से अच्छी तरह मिला दें। चूहे के हर बिल पर जहरीले चुग्गे की एक चम्मच मात्रा रखें। जहरीला चुग्गा या बेट प्रयोग करने से पहले बिना जहर का नकली बेट चूहे वाले स्थान पर एक-दो दिन तक रखना चाहिये ताकि चूहें इन दानों को स्वाभाविक तौर पर खाने लगें। उसके बाद जहरीला चुग्गा या बेट रखें। जैसे ही चूहें इन जहरीले दानोंको खायेगें वो मर जायेगें। जिंक फास्फाइड के जहरीले चुग्गे में कभी भी पानी नहीं डाले और हमेशा नया बेट बनाये। चूहें मार जहरीले बेट को बच्चों, पालतु पशुओं और पक्षियों से दूर रखना चाहियें। मरे हुए चूहों और बचे हुए जहरीले दानों को मिट्टी में दबा देना चाहिये। चूहे नियंत्रण के काम को सामूहिक रुप से गांव के स्तर पर किया जाय तो अच्छी कामयाबी मिलेगी।



03 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों के लिये यह संदेश CCAFS द्वारा प्रसारित किया जा रहा है। गेहूँ की फसल पर फरवरी-मार्च के महीने में चेपा या तेला कीट का प्रकोप देखा जा सकता है। ये कीट पत्तियों और बालियों से रस चूसकर फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। चेपा या तेला की रोकथाम के लिये मैलाथियान 50 ई.सी. दवा जो बाजार में कई नाम से मिलती है कि 400 मिली लीटर मात्रा को 250 लीटर पानी में मिला कर एक एकड़ क्षेत्र पर छिड़के। फसल के पत्तों या बालियों पर ये छोटे छोटे कीट अकसर एक झुण्ड में दिखते हैं। एक झुण्ड या समूह में जब दस कीट मिले तो कीटनाशक दवा मैलाथियान का छिड़काव करना चाहियें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



04 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की फसल की बढवार की कुछ अवस्थाओं पर सिंचाई देने का काफी महत्व है। पहली सिंचाई तो हम हर हालत में शीर्ष या शिखर जड़ निकलने की अवस्था जो बीजाई के 20-25 दिन बाद आती है पर देते ही हैं। लेकिन बाद की सिंचाई किस अवस्था पर देनी है वो इस बात पर तय होती है कि हम कुल कितनी सिंचाई गेहूँ की फसल को दे सकेगें। यदि सिर्फ दो सिंचाई का ही पानी उपलब्ध है तो दूसरी सिंचाई बीजाई के लगभग 85 दिन बाद बालियां बनने की अवस्था पर देनी चाहिये। यदि तीन सिंचाई उपलब्ध है तो दूसरी सिंचाई बीजाई के 65 दिन बाद फसल के पोटेया गाभे की अवस्था पर और तीसरी सिंचाई दाना बनने की अवस्था पर बीजाई के 105 दिन बाद करनी चाहियें। जहां चार, पांच या छ सिंचाई दी जा सकती है वहां फसल में बीजाई के 85 दिन बाद बालियां बनने की अवस्था पर अवश्य सिंचाई करनी चाहिये। पानी की उपलब्धी, फसल की अवस्था और भूमि में नमी को ध्यान में रहते हुए गेहूँ में सिंचाई दें।



05 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिनों तक आपके जिलें में मौसम में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिलेगा। आसमान में हल्के बादल बने रहेगें और कल और परसों कहीं कहीं वर्षा भी हो सकती है। दिन के तापमान में थोड़ी बढ़ोत्तरी हो सकती है। अधिकतम तापमान 20-21 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 8-10 डिग्री सेल्सियस रहने की सम्भावना है। सुबह के समय हवा में नमी 56-85% और दोपहर में 33 से 51% रह सकती है। पूर्वी हवा 8-14 किलोमीटर प्रति घन्टेकी रफतार से चलेगी। ऐसे मौसम में आप अपने गेहूँ के खेतों पर निगरानी रखें और चेपा या तेला या रतुआ रोग दिखाई दे तो जिस दिन मौसम साफ हो उस दिन इनकी रोकथाम के लिये स्प्रे करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



06 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। इन दिनों गेहूँ के खेत में हमे चेपा, तेला, माहू, या अल कीट प्रकोप देखने को मिल रहा है। यदि इस कीट की संख्या प्रति पौधा दस से ज्यादा हो जाय तो इमिडाक्लोप्रिड की बीस ग्राम मात्रा या मैलाथियान 50 ई.सी. की 400 मिली लीटर मात्रा 250-300 लीटर पानी में मिलाकर खेत में छिड़काव करें। इस समय चूहों का प्रकोप भी देखा जा सकता है। चूहों से बचाव के लिये उनके बिलों में एल्यूमिनियम फास्फाइड की टिकिया रखें और बिल बंद करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



07 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की फसल में दीमक से नुकसान फसल की किसी भी अवस्था में देखा जा सकता है। भूमि में नमी की कमी और वातावरण शुष्क और ठण्ड कम होने के साथ ही दीमक भूमि के उपरी सतह पर आकार फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं। बदलते मौसम के साथ खेत में दीमक के प्रकोप को देखा जा सकता है। खड़ी फसल में दीमक का आक्रमण होने पर दो लीटर क्लोरपाइरीफास 20 ई.सी. दवा को दो लीटर पानी में मिलाकर बीस किलोग्राम रेत में बराबर मिलायें। इसके बाद इसे एक एकड़ गेहूँ की फसल में एक सार बिखेर दें और फिर सिंचाई करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



08 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज आपके जिलें में आसमान में बादल छाये रहेंगे और थ¨डी वर्षा की भी सम्भावना है। कल से अगले तीन दिन तक मौसम साफ रहेगा और दिन में धूप निकलेगी। दिन का अधिकतम तापमान 20 से 22 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 6-9 डिग्री सेल्सियस रहेगा। सुबह के समय हवा में नमी 64 से 91 प्रतिशत और दोपहर में 39 से 63 प्रतिशत रहने का अनुमान है। पिछवा हवा 7 से 9 किलोमीटर प्रति घन्टेकी रफतार से चलने की सम्भावना है। कोई भी स्प्रे मौसम साफ होने तक टाल दें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



09 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। देर से बोई गई गेहूँ की फसल में आप अब भी खरपतवार नियंत्रण के लिये दवा का छिड़काव कर सकते हैं। जिस दिन मौसम खुला हो और हवा तेज नहीं चल रही हो उस दिन छिड़काव करें। इस समय खरपतवारनाशी दवा पीनोक्साडेन 5% ई.सी. जो बाजार में एक्सियल के नाम से मिलती है का छिड़काव करना ठीक रहेगा। एक्सियल दवा की 400 मिली लीटर दवा का 200-250 लीटर पानी में घोल बनाकर एक एकड़ क्षेत्र पर स्प्रे करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



10 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । मौसम के साफ रहने और हवा में नमी बनी रहने से गेहूँ की फसल में Yellow Rust पीला रतुआ रोग की सम्भावना बन सकती है। अतः आप इस रोग के प्रति सतर्क रहे और रोग के लक्षण दिखते ही दवा का छिड़काव करें। प्रोपिकोनाजोल 25 ई.सी. दवा जो बाजार में ज्पसज के नाम से मिलती है कि 200 मिली लीटर मात्रा को 200 लीटर पानी में मिलाकर एक एकड़ क्षेत्र पर छिड़के। रोग से बचाव के लिये ज्पसज दवा के अलावा फोलीकुर या बाईलेटोनन दवा भी इसी मात्रा में काम में ली जा सकती है। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



11 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। गेहूँ की फसल के लिये यह ऐसा समय है जब कि हमें खेत की पूरी निगरानी रखनी है। और सतर्क रहना है कि खेत में किसी कीड़े बीमारी का प्रकोप तो नहीं हो रहा है। इस समय गेहूँ की फसल पर तेला-चेपा माहू या अल लगने की सम्भावना रहती है। साथ ही दीमक और चूहे भी खेत में दिखाई दे सकते हैं। इस अवस्था में गेहूँ में पीला रतुआ फैलने की भी आशंका रहती है। कीड़े बीमारी का प्रकोप देखने पर उनके रोकथाम का उपाय करें। मौसम फसल की अवस्था और भूमि में नमी को देखते हुए सिंचाई करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



12 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों के लिये यह संदेश CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग और धान अनुसंधान स्टेशन कौल से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिलें में आज दिन में धूप खिली रहेगी लेकिन ठण्डी हवा चलेगी। कल से मौसम में थोड़ा बदलाव आयेगा और आसमान में बादल छाने लगेगें। शुक्रवार और शनीवार को वर्षा होने की सम्भावना है। इस सप्ताह के अंत तक दिन का तापमान 15-22 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 3-10 डिग्री सेल्सियस रह सकता है हवा क रुख दो दिन में बदल कर पूर्व से पश्चिम हो जायेगा और रफतार रहेगी 7-12 किलोमीटर प्रति घन्टा। सुबह के समय हवा में नमी 64-96% प्रतिशत और दोपहर बाद 33-85% रहेगी। यह मौसम गेहूँ की फसल में रतुआ रोग फैलने के अनुकूल है। रोग दिखाई देने पर सिफारिश के अनुसार छिड़काव करें।



13 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। हम ज्यादातर धान-गेहूँ का फसल चक्र अपना रहे हैं। एक अनाज के बाद दूसरी अनाज की फसले लेने से भूमि में एक ही तरह के पोषकतत्व निकल रहे हैं। अब यह जरुरी हो गया है कि इस फसल चक्र में एक दलहनी फसल को भी मिलाया जाय। दलहनी फसल भूमि में नाइट्रोजन की मात्रा बढायेगी और इसके फसल अवशेष से भूमि को भी जीवांश मिलेगा। गेहूँ की फसल के बाद अपने खेत में मूंग की फसल लगाने के बारे में सोचे। खरीफ की फसल लगाने से पहले मूंग की फसल तैयार हो जायेगी और इससे एक एकड़ में 6-10 क्विंटल दाना भी मिल पायेगा। फलियां चूनने के बाद फसल को हरी खाद के रुप में खेत में पलट भी सकते हैं। जायद में मूंग की फसल लेकर अधिक आमदनी के साथ भूमि की उर्वरा शक्ति भी बढा सकते हैं।



14 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। यह देखा गया है कि हमारे खेतों में जीवांश की मात्रा बहुत घट रही है जिससे फसलों में पोषकतत्वों का प्रभावी उपयोग नहीं हो पा रहा है। भूमि की जल धारण क्षमता और उसकी भौतिक, रासायनिक और जैविक बनावट पर भी बुरा असर पड़ रहा है। भूमि में जीवांश की मात्रा बढाने के लिये वे सभी किसान जिनके पास पशुघन नहीं है। हरी खाद का सहारा ले सकते हैं। गेहूँ की फसल कटने के बाद हरी खाद के लिये सनई या ढेंचा की बुवाई करें और फसल की फूल आने की अवस्था पर उसे खेत में पलट दें। ऐसा करने से भूमि की उर्वरा शक्ति बढेगी और आगे ली जाने वाली फसलों से भरपूर उपज मिलेगी। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



15 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज आपके जिले में वर्षा के आसार बने हुए हैं। कल आंशिक तौर पर बादल छाये रहेगें पर वर्षा की सम्भावना कम है। उसके बाद दो दिन तक आसमान खुला रहेगा। अगले तीन चार दिन का अधिकतम तापमान 18-21 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 6-7 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। हवा में नमी सुबह के समय 57-92% और दोपहर बाद 37-75% रहेगी। हवा का रुख ज्यादातर पिछवा रहेगा और रफतार होगी 6-16 किलोमीटर प्रति घंटा। स¨मवार मंगवाल को मौसम खुलने पर पीला रतुआ रोग के लक्षण दिखाई देने पर छिड़काव करें। वर्षा के कारण कहीं खेत में अधिक पानी खड़ा है तो उसे निकालें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



16 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान (NDRI) करनाल इस महीने की 25, 26 और 27 तारीख को राष्ट्रीय पशु मेले का आयोजन कर रहा है। इस मेले में जायें और भैसों की प्रदर्शनी और प्रतियोगिताएँ रखी गई हैं। साथ ही किसान संग¨ष्ठी का भी आयोजन है। महिलाओं के लिए विशेष तौर पर दुग्ध दोहन और पनीर बनाने की प्रतियोगिता रखी गई है। इसके अलावा फसलों की उन्नत किस्में वर्मी कम्पोस्ट और संतुलित पशु आहार बनाने की विधि का भी प्रदर्शन किया जायगा। आप अपने पशुओं का पंजीकरण 24 तारीख की रात से ही कर सकते हैं। धन्यवाद।



17 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्था, नई दिल्ली जिसे हम पूसा (Institue) के नाम से भी जानते हैं, इस महीने की 25-28 तारीख को कृषि विज्ञान मेला आयोजित कर रहा है। इस वर्ष के मेलो का विषय है ‘‘ टिकाऊ कृषि के लिये जलवायु वन्यक प्रोधोगिकियां‘‘। इस मेले में किसानों के खेत की मिट्टी और पानी की मुद्रा जांच, रबी फसलों की उन्न्त कृषि विधियों का प्रदर्शन, वैज्ञानिकों से चर्चा, कृषि साहित्य की बिक्री, उन्नत किस्मों के बीजों और पौधों की बिक्री की व्यवस्था की गई है। दूर दराज से आये किसानों को संस्थान के आस पास स्थित धर्मशालाओं और सामुदायिक भवनों में निशुल्क आवास उपलब्ध कराया जायेगा। अधिक जानकारी के लिये आप संस्थान के टोल फ्री नम्बर -1800-11-8989 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



18 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों नमस्कार। मौसम अभी दो दिन के लिये खुला है लेकिन इसके बाद बादल बनने या वर्षा के आसार हैं। इस समय अपने खेत में कीड़े बीमारी के प्रकोप का विशेष ध्यान रखें। इस समय गेहूँ के खेत में तेला-चेपा-माहू या अल लगने की सम्भावना रहती है यदि पत्तों या बाली पर दस से ज्यादा कीट एक समूह में दिखे तो मैलाथियान दवा 400 मिली लीटर -200 से 250 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें। इस समय गेहूँ में रतुआ रोग फैलने की भी सम्भावना रहती है। रोग के लक्षण दिखते ही टिल्ट, फ¨लीक्यूर, बेलेट¨न में से किसी एक दवा की 200 मिली लीटर मात्रा को 200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



19 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों नमस्कार। आज हम आपको श्री जसपाल सिंह पिता श्री रघुवीर सिंह, गांव अजंनथली जिला करनाल ने CCAFS के संदेशों को सुनकर जो लाभ लिया है उसके बारे में जानकारी दे रहे हैं। श्री जसपाल CCAFS के कार्यक्रम से धान की फसल के समय से जुड़े हुए हैं। वे CCAFS के वाणी संदेशों को अपने मोबाईल फोन में सेव भी कर लेते हैं और बाद में इन संदेशों को दूसरे किसान भाइयों को भी सूनाते हैं। श्री जसपाल ने पाया है कि मौसम की जानकारी इनको जो मिलती है वो शत प्रतिशत सही है। इसकी वजह से उन्होने फसल पर दो छिड़काव की भी बचत की है और सिंचाई में भी उनको बचत हुई है। श्री जसपाल का मानना है कि CCAFS के संदेश सुनकर खेती की लागत में लगभग 40% की बचत हो जाती है। CCAFS के संदेशों को लगातार सूनकर आप भी जलवायु परिवर्तन और मौसम को ध्यान में रख कर खेती करें और मुनाफा कमाये। धन्यवाद।



20 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज और कल के दिन आपके जिलें में मौसम साफ रहेगा और दिन में धूप निकलेगी। शनिवार के बाद आसमान में बादल रहेगे और शनिवार दोपहर बाद वर्षा की सम्भावना है। रविवार तक पुरवा हवा चलेगी और बाद में हवा का रुख बादल कर पिछवा हो जायेगा। दिन का अधिकतम तापमान 22-25 डिग्री सेल्सियस और रात में न्यूनतम तापमान 8-14 डिग्री सेल्सियस रह सकता है। सुबह के समय हवा में नमी 50 से 97% और दोपहर बाद 32 से 98% रहने का अनुमान है। हवा की गति 8-14 किलोमीटर प्रति घन्टा रहेगी। गेहूँ की फसल में कोई भी छिड़काव मौसम साफ, शान्त और खुला रहने पर ही करें। वर्षा की सम्भावना देखते हुए सिंचाई रोक दें। रतुआ रोग के प्रति सजग रहें। धन्यवाद।



21 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। आज हम आपके साथ करनाल जिलें के संधीर गांव के निवासी श्री राकेश वल्द श्री बेकुंठ दास के अनुभव साझा कर रहे हैं। श्री राकेश शुरु से ही CCAFS के संदेश सुन रहे है और उन्हे इसका फायदा भी हो रहा है। वे संदेशों से मौसम की जानकारी लेते है और उसके अनुसार ही फसल को पानी-दवाई लगाते हैं। इस बार राकेश जी ने संदेश सुनने के बाद खेत की मिट्टी की जांच कराई और उसकी सिफारिश मानते हुए खाद डाला। उनका कहना है कि कम खाद काम में लेने पर भी फसल ठीक है। इस बार उन्होने पोटाश खाद की मात्रा थोड़ी बढाई थी। सिफारिश के अनुसार सन्तुलित खाद देने से उन्हे फायदा हुआ है। गेहूँ की फसल कटने के बाद आप भी अपने खेत की मिट्टी की जांच जरूर करवायें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



22 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम में अब धीरे धीरे बदलाव आना शुरु हो रहा है। दिन के और रात के तापमान में बढ़ोत्तरी हो रही है। इसके साथ ही गेहूँ में सिंचाई की आवश्यकता भी बढती रहेगी। फसल की अवस्था भी अब ऐसी आयेगी जहां अगर खेत में सूखा रहा तो उपज में कमी आयेगी। गेहूँ में बाली में दाने बनने की अवस्था सिंचाई के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण है। बाली में पुरी मात्रा में दाने बने इसके लिये इस अवस्था पर सिंचाई पर ध्यान दें। खेत में हल्की सिंचाई करें। जब तेज हवा चल रही हो तो उस समय सिंचाई न करें। यदि गेहूँ की फसल में किसी रोग के लक्षण प्रकट हो रहे हो तो भी सिंचाई रोक दें। पहले छिड़काव कर लें, बाद में सिंचाई करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



23 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आपके जिले में अगले पांच-छ दिनों में आसमान में धूप छांव का खेल चलता रहेगा। कभी धूप तो कभी बादल। दिन का तापमान 22 डिग्री सेल्सियस से 25 डिग्री सेल्सियस रहेगा। हवा का रुख बदलता रहेगा और हवा की गति 6-11 किलोमीटर प्रति घन्टे रह सकती है। सुबह के समय में हवा में नमी 54-76% और दोपहर बाद 33-50% रहेगी। ऐसे समय में गेहूँ की फसल पर रोली लगने की सम्भावना हो सकती है। साथ ही यह मौसम चेपा या अल कीट के लिये भी अनुकूल है। सिफारिश के अनुसार बीमारी और कीड़े की रोकथाम का इंतजार करें। धन्यवाद।



24 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। जानकारी मिली है कि गेहूँ की फसल में तेला-चेपा माहू या अल लग रहा है। इस कीट की रोकथाम के लिये कोई भी कीटनाशी दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं। मैलाथियान 50 ई.सी. की 400 मिली लीटर मात्रा या मेटासिस्टोक की 500 मिली लीटर मात्रा या डायमैथोएट 30 ई.सी. (रोगोर) की 600 मिली लीटर मात्रा को 250 लीटर पानी में घोल कर एक एकड़ क्षेत्र पर छिड़काव करें। यदि दोबारा छिड़काव करने की आवश्यकता हो तो दवा बदल कर छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



25 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। इन दिनों आपके गांवो में CCAFS के कार्यकर्ता आपसे मुलाकात करके कुछ सर्वे कर रहे हैं। यह सर्वे आपके गांवो की सामाजिक और आर्थिक हालात जानने के लिये हैं। आपसे आपकी जमीन, पशु, घरबार और आमदनी की जानकारी ली जायेगी। इस जानकारी का उपयोग CCAFS सिर्फ अपने अनुसंधान के लिये ही करेगा और अन्य किसी को यह जानकारी नहीं दी जायेगी। आप से निवेदन है कि सर्वे के दौरान CCAFS के साथियों को निसंकोच सही सूचना दे जिससे अनुंसाधन में सही परिणाम मिल सके। आप सभी से CCAFS पुरे सहयोग की आशा रखता है, उसमें आप हमारी मदद करें। धन्यवाद।



26 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों । नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिन तक आपके जिले में आंशिक या अधिकांश तौर पर बादल छाये रहेगें। गुरू, शुक्र और शनिवार को तापमान 8-10 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। सुबह के समय कोहरा रहने के साथ हवा में नमी 61-98% और दोपहर बाद 33-49% रह सकती है। पूरवा हवा 4-7 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफतार से चलेगी। गेहूँ की फसल में वर्षा की सम्भावना देखते हुए सिंचाई रोक दें। फसल पर कीडे और रोग के प्रति भी सचेत रहे। मौसम साफ पर ही कोई छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



27 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। खेती में किसान को हमेशा मौसम के बिगडने का डर सताता रहता है। जैसा कि इन दिन देखने को मिल रहा है कहीं- कहीं वर्षा हो रही है और कुछ स्थानों पर ओला वृष्ट्री भी हुई है। खड़ी फसल पर इस तरह से बदलते मौसम के कारण भारी नुकसान हो सकता है। जिस मेहनत से खर्चा कर के हम फसल बड़ी करते हैं और वर्षा, ओले, आंधी और तापमान में अचानक बदलाव से फसल को नुकसान हो जाय तो आमदनी भी नहीं हुई और जो खर्चा किया उसका भी भार पड़ गया। मौसम से होने वाली आपदा से खेती में जोखिम का बचाव या प्रबंधन जरूरी है। फसल बीमा या मौसम बीमा इसका एक उपाय हो सकता है। खरीफ और रबी की बुवाई से पहले अलग अलग जिलों में अलग अलग फसल के लिये बीमा योजनाएं लागू होती है। इन योजनाअो को समझते हुए इनका लाभ लेना चाहियें। हमें इन योजनाओं में सुधार के लिये भी कृषि विभाग और बीमा कम्पनियों को सुझाव देना चाहियें धन्यवाद।



28 FEBRUARY

Morning :

करनाल जिले के क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों को CCAFS का नमस्कार। फसल की सुरक्षा हमें सिर्फ खेत में ही नहीं करनी है। कटाई-गहाई के बाद अनाज निकलने पर उसका सही भण्डारण भी करना है जिससे की उपज सुरक्षित रहे। अनाज के सही भण्डारण के लिये धातु की कोठियों का उपय¨ग करना चाहिये। इन कोठियों में कीड़ों से बचाव के लिये प्रघूमन भी आसानी से किया जा सकता है। कोठियों में नमी भी नहीं जाती इसलिये इससे अनाज के सड़ने या उसमें फफूंद लगने का खतरा भी नहीं रहता है। बाजार में दस क्विंटल अनाज भण्डारण क्षमता की कोठियों मिल जाती है। धातु की कोठियों की खरीद पर सरकार की तरफ से सब्सिड़ी भी उपलब्ध है। सामान्य श्रेणी के किसानों को 50% और अनुसूचित जाति के किसानों को 75% अनुदान दिया जाता है। कृषि विभाग से सम्पर्क कर इस इस योजना का लाभ उठाये। अधिक जानकारी के लिये CCAFS की हेल्पलाइन 992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।


Copyright @ 2014 CIMMYT All Rights Reserved || Developed By :Kisan Sanchar