Karnal Voice message September 2014


02 September

Morning:

क्लाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाईयों और बहनों | नमस्कार| आपके क्ष्रेत्र में कहीं कहीं धान की फसल पर गर्दन तोड़ रोग का प्रकोप देखने को मिला है जिसे आप नैक ब्लास्ट या पेनी ब्लास्ट के नाम से भी जानते हैं। इस रोग में बाली के नीचे की गांठ भूरी काली हो जाती हैं और वहां से बाली टूट जाती है। रोग के शुरुवाती लक्षण दिखते ही उसके बचाव के लिए छिड़काव करना चाहिए। एक एकड़ खेत में 120 ग्राम ट्राइसाक्ला जोल 75 WP को 200 लीटर पानी में घोल बना कर छिड़काव करें। यह दवा बाजार में बीम या सीविक के नाम से भी मिलती है। 15 दिन बाद एक बार फिर छिड़काव करें। अधिक जानकारी के लिए CCAFS की हेल्पलाइन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।



11 September

Morning:

करनाल जिले के कलाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। इन दिनों जिस तरह का मौसम चल रहा है उसमे धान की फसल पर पत्ती लपेट सूण्ड़ी और तेले का प्रकोप अधिक हो सकता है। इसकी रोकथाम के लिये 10 किलोग्राम मिथाइल पैराथियान (Folidol) 2 % धुड़ा प्रति एकड़ घुडे या एक लीटर क्लोरपाइरीफॉस 20 ई.सी. जो बाजार में डरमेथ लीथल फोरस आदि नामों से मिलता है को 250 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। आवश्यकता हो तो 10 से 15 दिन बाद एक बार फिर दवा डालें। सभी किसान भाई मिलकर यह काम करेगें तो अच्छा रहेगा नहीं तो सूंडी या तेला पड़ोस के खेत में पनपता रहेगा। अधिक जानकारी के लिए CCAFS की हैल्पलाईन 9992220655 पर फोन करें। आपका धन्यवाद।



14 September

Morning:

करनाल जिले के कलाईमेट स्मार्ट गाँव के किसान भाइयों और बहनों। नमस्कार। यह संदेश आपको CCAFS की तरफ से दिया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में हमने आपको धान में तना छेदक टिड्डे, पता लपेट सूण्डी, तेला, गंधी बग कीड़ों का रोकथाम के लिये कुछ दवाईयों का उपयोग बताया था। स्प्रे के लिए मिथाइल पैराथियान, मोनोक्रोटोफास, क्लोरपायरीफॉस, केरटैप हाड्रोक्लोरइड, डाइक्लोरवांस आदि दवा का नाम लिया था। इसका मतलब यह नहीं है कि आप इन दवाओं का मिक्चर बनायें। एक बात जरुर ध्यान में रख सकते हैं कि हर बार दवा बदलें। एक ही दवा बार बार काम में लेने से कीड़ों में दवा के प्रति प्रतिरोध पैदा हो सकता है और एक ही दवा काम में लेने से धीरे-धीरे उसका असर कम होने लगता है। एक बात और ध्यान दें दवा के डिब्बे या शीशों पर लिखे निर्देशों को भी जरुर पढ़े। दवा का सही घोल बनाये और बताये गये तरीके से स्प्रे करें। अधिक जानकारी के लिए CCAFS की हैल्पलाईन 9992220655 पर सम्पर्क करें। धन्यवाद।


Copyright @ 2014 CIMMYT All Rights Reserved || Developed By :Kisan Sanchar